ई-कॉमर्स इंडस्ट्री में रहेगी नौकरियों की भरमार

नयी दिल्ली: ई-कॉमर्स और इससे संबंधित क्षेत्रों में इस साल ढाई लाख नयी नौकरियाँ मिलने की संभावना है। इंडस्ट्री संगठन एसोचैम ने एक शोध पत्र में आज यह बात कही। उसने कहा कि ई-कॉमर्स कंपनियों और इनसे जुड़ी आपूर्ति श्रंखला, लॉजिस्टिक्स, सहायक कंपनियों आदि में इस साल के अंत तक 25 लाख स्थायी तथा अस्थायी कर्मचारियों की जरूरत होगी।

पिछले एक साल में अधिकतर ई-कॉमर्स कंपनियों का कारोबार बढ़ा है और इससे इस इंडस्ट्री में आगे भी इस विकास प्रक्रिया को जारी रखने की अपार संभावना है। इसके मद्देनजर कंपनियाँ इस साल बड़ी संख्या में नयी भर्ती करेंगी। उसने बताया कि स्मार्ट फोनों के बढ़ते इस्तेमाल और रिटेलरों द्वारा निवेश में बढ़ोतरी से एम-कॉमर्स में तेज बढ़ोतरी देखी जा रही है।

एसोचैम ने कहा कि अगले दो-तीन साल में इस क्षेत्र में नयी नौकरियों की संख्या में 60 से 65 प्रतिशत की वृद्धि की संभावना है जिससे इस दौरान पाँच से आठ लाख लोगों को नौकरी मिलेगी।

शोध पत्र में कहा गया है कि वर्तमान में ई-कॉमर्स क्षेत्र में मोबाइल कॉमर्स (एम-कॉमर्स) की हिस्सेदारी महज 20 से 25 प्रतिशत है, लेकिन क्षेत्र के बढ़ते कारोबार के साथ इसकी हिस्सेदारी भी बढ़ेगी, विशेषकर टैक्सी और रेस्टोरेंटों के बढ़ते एम-कॉमर्स कारोबार की इसमें महत्वपूर्ण भूमिका होगी। भारतीय ई-कॉमर्स में हो रही तेज बढ़ोतरी के बारे में कहा गया है कि वर्ष 2009 में यह 3.8 अरब डॉलर का था जो 2014 में बढ़कर 17 अरब डॉलर तथा 2015 में 23 अरब डॉलर पर पहुँच गया। इस साल इसके 38 अरब डॉलर का हो जाने की उम्मीद है।

Loading...
loading...
Comments