समय के साथ करियर को दे नए आयाम

  • अपडेट रहें

अपने करियर पर नियंत्रण हासिल करने का पहला कदम है, जानकारी जुटाना। ऐसा अपने आंतरिक संसाधनों और बाहरी संदर्भ को मद्देऩजर रखते हुए करें। करियर एक्सप्लोरेशन के शुरुआती चरणों में आप स्वयं तथा अपने परिवेश को लेकर जागरूक बनेंगे जैसे कि इसमें आपकी रुचियां, नैतिक मूल्य, प्रतिभा, अवसर, अवरोध और परिवेश सब शामिल हैं। यह बहुआयामी जागरूकता आपकी योजना को आपके लक्ष्यों से जोड़ेगी, जिसके बाद आप अपनी योजना को चरण-दर-चरण लागू कर सकेंगे। उदाहरण के लिए इंटरपर्सनल स्किल के लिए आप विभिन्न शैक्षणिक कार्यक्रम चुन सकते हैं या फिर दोस्तों और परिवार की मदद ले सकते हैं। अपने परिवेश से मिलने वाला रीयल टाइम फीडबैक आपकी अपने लक्ष्य और उन्हें लागू करने के तरीकों में आवश्यक परिवर्तन करने में मदद करेगा।

आप क्या हासिल करना चाहते हैं, यह स्पष्ट रूप से परिभाषित करने के लिए इस प्रक्रिया को अपनाए

अपनी समस्याओं को चिन्हित करते हुए विकल्पों को समझें। गहन प्रश्नोत्तर, जानकारी जुटाने और आत्मनिरीक्षण द्वारा विश्लोषण करें। संभावित समाधानों को चिन्हित करें। समाधानों को अपने नैतिक मूल्यों और उनके संभावित प्रभावों की कसौटी पर रखकर समझें। विकल्पों को आ़जमाकर और अच्छी तरह सोच-विचार कर लागू करें।

करियर प्लानिंग में आने वाली सबसे बड़ी बाधाओं में से एक यह तथ्य है कि करियर पूरी जिंदगी से जुड़ी ची़ज है। सही रास्ते पर बने रहने के लिए शॉर्ट-टर्म योजनाओं की जरूरत पड़ती है, लेकिन समय के साथ आवश्यक सुधार करना और भावी योजनाएं बनाना भी आना चाहिए। जैसे-जैसे आप अपने करियर में आगे बढ़ेंगे, आप पाएंगे कि कभी अत्यंत महत्वपूर्ण और अनमोल रहे असेट्स अब पुराने और आउटडेटेड हो गए हैं। बा़जार में अपनी मांग बनाए रखने की एक ही कुंजी है और वो है, अपने करियर को लगातार नए आयाम देते रहना।

Loading...
loading...
Comments