जूलरी डिजाइनिंग में असीम संभावनाएं

आजकल फैशन का जलबा हर किसी पर छाया हुआ है। फैशन के मामले में लड़के लड़किया सभी आगे हैं। आजकल महिलाएं अपनी ड्रेस के साथ मैचिंग बैंगल्स, इयररिंग, नेकलेस और फिंगर रिंग के साथ ब्रेसलेट आदि कैरी करती हैं। फलस्वरूप जूलरी का क्रेज बढ़ने के साथ जूलरी ट्रेंडी और स्टाइलिश बनती जा रही है। इसी मांग के चलते जूलरी में कैरियर के नए-नए आयाम भी खुल रहे हैं।

वैसे तो कुछ समय पहले तक जूलरी के कारोबार में कुछ खास परिवार के पास ही मेकिंग और डिजाइन का कारोबार होता था जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक आगे बढ़ता रहता था लेकिन इसके आयाम बदल गए हैं। अब यह धनाढय लोगों का व्यवसाय बन गया है। वैसे तो अब तक सोने और चांदी के आभूषण ही ज्यादा मांग में रहते थे लेकिन बदलते फैशन और मांग के कारण अब आर्टिफिशियल जूलरी का ट्रेंड तेजी से बढ़ रहा है। अगर रचनात्मकता हैं तो जूलरी डिजाइन में करियर बनाना बहुत ही अच्छा ऑप्शन हो सकता है। तैयारी वैसे तो जिस भी क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहते हैं, उस क्षेत्र में पढ़ाई करना भी जरूरी है।

जूलरी डिजाइन में विभिन्न शिक्षण संस्थानों में शॉर्ट टर्म, लॉन्ग टर्म के अलावा डिस्टेंस लर्निग में पाठ्यक्रम तो चलाए ही जाते हैं, साथ ही डिप्लोमा, डिग्री और पोस्ट ग्रेजुएशन में भी इस कोर्स की पढ़ाई कराई जाती है। वैसे तो इसकी पढ़ाई के लिए देशभर में कोर्स उपलब्ध हैं, डिप्लोमा में दाखिला के लिए कम से कम बारहवीं पास होना पड़ता है। इसके अलावा, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन से कोर्स करने वालों की मांग मार्किट में ज्यादा है। सबसे ज्यादा जरूरी है कि इस क्षेत्र में करियर बनाने वालों में जेम्स और जूलरी के दाम, मेकिंग, डिजाइन के बारे में बेहद ज्ञान होना चाहिए। इसमें टेक्नीकल और डिजाइनिंग दोनों में जॉब के अच्छे ऑप्शन मिलते हैं।

» फीस- सभी संस्थानों की फीस अलग-अलग होती है लेकिन एक साल के कोर्स के लिए करीब पचास हजार रुपये से दो लाख रुपये तक का खर्च आता है। इसके अलावा, शार्ट टर्म कोर्स के लिए यही खर्च बीस हजार रुपये से चालीस हजार रुपये हो जाता है।

आमदनी शुरुआती दौर में दस से पंद्रह हजार रुपये की सै लरी पर नौकरी की शुरुआत की जा सकती है, जो एक से दो साल के अनुभव में बीस से पचीस हजार रुपये तक आसानी से बढ़ जाती है। इसके अलावा, देश की जानी-मानी कंपनी में डिजाइनर के तौर पर लाख रुपये की सैलरी पा सकते हैं। कुछ खास पद जैसे जूलरी डिजाइनर, गोल्ड स्मिथ, मैनिफैक्चरर, रिपेयर पर्सन आदि के नाम से भी करियर की शुरुआत कर सकते हैं। वाले किसी जूलरी की ट्रेडिंग और रिटेिंलग सेक्टर में नौकरी की खोज कर सकते हैं।

Loading...
loading...
Comments