Delhi में High Profile महिलाएं इस Market में आकर मर्दों की लगाती हैं बोली !!

Delhi में Girls ही नहीं Boys यानी मर्दों के Jism का कारोबार भी बड़ी तेजी से पनप रहा है। आलम ये है कि यहां के कई प्रमुख VVIP इलाकों की मार्केट में मर्दो की बाजार रात 10 बजे से सुबह 4 बजे तक सजती है। DELHI में सज रहे मर्दों के इस मंडी को ‘जिगोलो मार्केट’ कहते है।

राजधानी के सरोजनी नगर, लाजपत नगर, पालिका मार्केट और कमला नगर Market समेत कई इलाकों में रात होते ही मर्दों की जिस्म फरोशी के धंधे की बाजार सज जाती है। इस बाजार में मर्दों की बोली लगाने वाले भी खास हैं। Market में High Profile परिवार की महिलाएं आकर मर्दों के जिस्म की बोली लगाती है, और सौदा पटते ही अपनी कार में बिठा कर चल देते हैं। ये सब काम इतनी सावधानी से होता है कि कानों कान किसी को खबर नहीं चलती।

  • पब, डिस्को और कॉफी हाउस में भी होता है सौदा

Delhi के इन Market में युवा खुलेआम अपने जिस्म का सौदा करते हैं। राजधानी की सड़कें जब सुनसान होती हैं लोग अपने घरों में आराम कर रहे होते हैं तब यहां इनका बाजार सजता है। खास बात ये है कि युवा Jism की खरीददार उन घरानों या इलाकों की महिलाएं होती हैं जिन्हें आम बोलचाल में हम High Profile कहते हैं और जिन इलाकों में ये रहते हैं उनको पॉश। युवा जिगोलों को बुक करने का काम हाईफाई Club, Pub, और coffee हाउस में भी होता है। कुछ घंटों के लिए इनकी बुकिंग 1500 से 3000 हजार रुपए में होती है। और अगर पूरी रात के लिए बुक करना हो तो ये जिगोलो 8 से 10 हजार तक लेते हैं। इसके अलावा युवाओं के गठीले और सिक्स पैक ऐब्स के हिसाब से 15 से 20 हजार रूपए तक कीमत दी जाती है

  • रात 10 बजे से सजता है बाजार

युवा जिस्म का ये बाजार रात 10 बजे से सुबह 4 बजे के बीच सजता है। युवा पॉश इलाकों में जैसे साऊथ एक्सटेंसन, जेएनयू रोड, आईएनए, अंसल प्लाजा, कनॉट प्लेस, जनकपुरी डिस्ट्रिक सेंटर के प्रमुख बाजारों की मेन सड़कों पर खड़े हो जाते हैं। इस डील को करने का तरीका भी शानदार है। इन युवाओं के पास आकर गाड़ी रुकती है, उस गाड़ी में जिगोलो बैठता है और जैसे ही सौदा तय होते ही गाड़ी चल देती है। जो भी युवा इस धंधे में लिप्त हैं वो सड़क पर आने से पहले गले में पट्टा और हाथ में रुमाल जरूर रखते हैं। दरअसल रुमाल और गले के पट्टे पर ही होती है इन जिगोलो की डिमांड, क्योंकि उसके गले में बंधे पट्टे पर बहुत कुछ निर्भर करती है। आप सुनकर दंग रह जाएंगे कि गले में बंधा पट्टा जिगोलो के लिंग की लंबाई दर्शाता है।

  • कॉरपोरेट जगत की तरह होता है काम

Delhi की सड़कों पर युवाओं के जिस्म के सौदेबाजी का काम बेहद नियोजित तरीके से होता है। इसके पीछे कई संस्था कम कर रही है। रात को सड़कों पर अपने जिस्म का सौदा करने उतरे इन युवाओं को कमाई का 20 प्रतिशत हिस्सा अपनी संस्था को देना होता है, जिनसे ये जुड़े हुए हैं। इस धंधा को Delhi के कई युवा अपना प्रोफेशन बना चुके हैं तो कई अपनी लक्जरी जरूरतों की पूर्ति के लिए इस दलदल में फंसते जा रहे हैं।

इनमें इंजीनियरिंग और मेडिकल की तैयारी करने वाले छात्र सबसे ज्यादा हैं। इसके आलावा साउथ दिल्ली के कई जाने-माने Hotels में भी यह धंधा जमकर फलफूल रहा है। यहां जिगोलो की पहचान गले में पहने पटटे से नहीं बल्कि उनके ड्रेस से होती है। होटलों में जिगोलो के हाथ में लाल रुमाल और गले में पटटे की बजाय काली पतलून और सफ़ेद शर्ट पहचान होती है। जिगोलो इन होटलों के रेस्तरां में बैठकर Coffee की चुस्कियां लेते हुए अपने ग्राहक की तलाश करते है।

Loading...
loading...
Comments