याददाश्त तेज करना है तो लें अच्छी नींद

याददाश्त यानि कि मेमरी इंप्रूव करने के लिए अच्छी नींद लेना जरूरी है। एक स्टडी में एक नई मेमरी का पता लगा है, जो अच्छी नींद से सुधरती है और ओरिजिनिल मेमरी को सपोर्ट करती है। अगर आप दूसरी तमाम चीजों के चलते अच्छी नींद नहीं ले रहे हैं, तो बेहतर होगा कि सोने का टाइम जरूर निकालें।

दरअसल, एक स्टडी से प्रूव हुआ है कि सोते हुए भी आप कई चीजों को सीखते हैं। हालांकि इस अनकॉन्शस मेमरी को अभी तक पूरी तरह समझा नहीं जा सका है, लेकिन यह जरूर साबित हुआ है कि अच्छी नींद लेना आपके लर्निंग प्रोसेस को फास्ट करता है। यह स्टडी मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के साइकॉलजी डिपार्टमेंट के असिस्टेंट प्रफेसर किंबर्ले फेन और उनकी टीम ने की है। इसके बारे में किंबर्ले का कहना है, ’’सोने के अपने तरीके को सुधारने से ही मेमरी काफी शार्प हो सकती है।’’ हमें लगता है कि इस दौरान हम एक अलग तरह के मेमरी सिस्टम पर काम कर रहे थे, जो ट्रडिशनल मेमरी सिस्टम से काफी अलग है।

बता दें कि इस स्टडी में 250 लोगों पर रिसर्च की गई थी और इसके नतीजे वाकई हैरान करने वाले रहे। इसमें बताया गया है कि इस ’’स्लीप मेमरी’’ के कई तरह के पॉजिटिव असर देखे गए हैं। वैसे, इस बारे में जर्नल ऑफ एक्सपेरिमेंटल साइकॉलजी जनरल में कहा गया है कि नींद के दौरान दिमाग हमारी जानकारी के बिना ही इंफॉर्मेशन की प्रोसेसिंग करता रहता है। स्टडी में इस बात के सबूत मिले हैं। यही नहीं, स्लीपिंग मोड की यह मेमरी जागने के बाद वाली पोजिशन की मेमरी को पूरी तरह सपोर्ट करती है।

बेशक यह मेमरी नई है और अभी तक इसे डिफाइन भी नहीं किया जा सका है। वैसे, किंबर्ले का मानना है कि यह मेमरी दूसरी मेमरीज से अलग है और इसका पता ट्रडिशनल इंटेलिजेंस टेस्ट के जरिए नहीं लगाया जा सकता। हालांकि अब उनकी टीम यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इस नई मेमरी की मदद से किस हद तक बच्चों की क्लासरूम लर्निंग को सुधारा जा सकता है। बहरहाल, जब तक उनकी टीम इस बारे में और रिसर्च करती है, तब तक आप इस स्टडी के नतीजे को समझते हुए स्लीपिंग पैटर्न को सुधारने की कोशिश जरूर करें।

Loading...
loading...
Comments