हथेली पर चतुष्कोण होता है दीर्घायु का प्रतीक

हस्तरेखा ज्योतिष के मुताबिक हाथों की लकीरों में आपका भाग्य निहित होता है। कहा जाता है कि हथेली पर जिस किसी भी रेखा के साथ या पर्वत पर चतुष्कोण बनता है उस रेखा या पर्वत से संबंधित शुभ परिणामों को बढ़ा देता है। साथ ही टूटी रेखाओं के दोष को कम भी करता है। हथेली पर चतुष्कोण चार भुजाओं वाली एक चौकोर आकृति को कहते हैं।

यदि आपकी जीवन रेखा पर चतुष्कोण है तो ये आपकी उम्र को बढ़ाने वाली मानी गई है। यदि जीवन रेखा टूट हुई हो और उस पर चतुष्कोण बना हो तो यह शारीरिक तकलीफों को कम कर देगा। यदि आपकी हथेली की विवाह रेखा पर चतुष्कोण हो तो ये आपके जीवनसाथी के कष्टों को कम करता है। यदि हथेली में भाग्य रेखा टूटी हुई हो, चतुष्कोण भाग्य रेखा के पास कहीं बन जाए तो व्यक्ति को आगे बढ़ने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। मस्तिष्क रेखा का अधिक लंबा होना मानसिक रूप से असंतोष देने वाला माना गया है। यदि मस्तिष्क रेखा पर चतुष्कोण है तो ये मानसिक रूप से संतुष्टि का भाव देता है।

हथेली पर है चतुष्कोण, तो जानें क्या है इसका मतलब

आपकी हाथों में कई रेखाएं होती हैं। हस्तरेखा ज्योतिष में कहा जाता है कि हाथों की लकीरों में आपका भाग्य लिखा होता है। कहा जाता है कि हथेली पर जिस किसी भी रेखा के साथ या पर्वत पर चतुष्कोण बनता है उस रेखा या पर्वत से संबंधित शुभ परिणामों को बढ़ा देता है। साथ ही टूटी रेखाओं के दोष को कम भी करता है। हथेली पर चतुष्कोण चार भुजाओं वाली एक चौकोर आकृति को कहते हैं।

1. यदि आपकी जीवन रेखा पर चतुष्कोण है तो ये आपकी उम्र को बढ़ाने वाली मानी गई है। यदि जीवन रेखा टूट हुई हो और उस पर चतुष्कोण बना हो तो यह शारीरिक तकलीफों को कम कर देगा।

2. यदि आपकी हथेली की विवाह रेखा पर चतुष्कोण हो तो ये आपके जीवनसाथी के कष्टों को कम करता है।

3. यदि हथेली में भाग्य रेखा टूटी हुई हो, चतुष्कोण भाग्य रेखा के पास कहीं बन जाए तो व्यक्ति को आगे बढ़ने में कोई दिक्कत नहीं आएगी।

4. मस्तिष्क रेखा का अधिक लंबा होना मानसिक रूप से असंतोष देने वाला माना गया है। यदि मस्तिष्क रेखा पर चतुष्कोण है तो ये मानसिक रूप से संतुष्टि का भाव देता है।

Loading...
loading...
Comments