अपनी आंखों की रोशनी बढ़ाने के अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

हमारी ज्ञानेन्द्रियों में आंखों को सबसे महत्वपूर्ण और संवेदनशील अंग माना जाता है। हमें अपनी आंखों का उतना ही ख्याल रखना चाहिए जितना कि हम शरीर के दूसरे अंगों का रखते हैं। कई अहम नुस्खे हैं जिसके जरिये हम अपनी आंखों को स्वस्थ्य बनाए रख सकते हैं। कुछ घरेलु नुस्खों को अपना कर आप अपनी आंखों को स्वस्थ्य रख सकते है।

आंखों के लिए सबसे अधिक लाभदायक विटामिन ए युक्त फल और सब्जियां होते हैं। अपने पौष्टिक डाइट में गाजर,पालक जैसे फलों और सब्जियों की प्रचुर मात्रा लें। जैसे- गहरे हरे रंग का पत्तेदार साग, स्प्राउट्स, नट, संतरे और नींबू।

ओमेगा 3 फैटी एसिड- अपने भोजन में मछली को शामिल करें क्यों इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। मछलियों में प्रमुख है सल्मोन, टयूना, और हलिबट। ताजा शोध से पता चला है कि ओमेगा-3 फैटी एसिड आंखों के लिए बहुत ही फायदेमंद है।

हेल्दी वेट- शारीरिक रूप से एक्टिव रहें अपने वजन को नियंत्रित रखें नहीं तो डायविटिज का खतरा बढ़ सकता है और अन्य सिस्टमेटिक कंडिशन बिगड़ सकता है। जिसका असर आपकी आंखों पर पड़ सकता है।

स्मोकिंग छोड़ें- स्मोकिंग सिर्फ आपके शरीर के लिए ही नुकसानदेह नहीं है बल्कि आपकी आंखों के लिए भी खतरनाक है। स्मोकिंग से बढ़ती उम्र से जुड़ी मैक्यूलर डिजेनरेशन, मोतियािंबद, और ऑप्टिक तंत्रिका के नुकसान का खतरा बढ़ सकता है।

अल्ट्रावायलेट सूर्य की रोशनी से बचें- सूर्य की ओर सीधी आंखों से देखना चाहिए। क्योंकि सूर्य से आ रही अल्ट्रावायलेट किरणें आपकी आंखों के रेटिना को खराब कर सकता है और इससे अंधापन भी हो सकता है। हमेशा अल्ट्रावायलेट प्रोटेक्टिव सनग्लास पहनें।

आंखों को धोएं- रोज सुबह-शाम अपनी आंखों को 10 से 15 बार छींटा मारकर पानी से धोएं। ऐसा करने से आपकी आंखें की थकावट दूर होगी और नमी और संचलन बढ़ेंगे। अपनी आंखों में बर्फ, ठंडा और गर्म पानी का इस्तेमाल न करें।

पर्याप्त नींद- रोज रात में पर्याप्त नींद में सोने से आपकी आंखें को आवश्यक पोषक तत्वों मिलेगा और उचित तरीके से काम भी करेगा। नींद की कमी से आंखों में थकान, खुजलाना और जलन होगी।

नियमित आंखों की जांच कराएं- अपनी नजर को मजबूत बनाने के लिए नियमित रूप से आंखों की जांच कराएं चाहे किसी भी उम्र के हों। हालांकि चालीस साल की आयु के बाद आखों की नियमित जांच करानी चाहिए।

Loading...
loading...
Comments