रमजान में क्यों रोजा खोलते समय खजूर खाया जाता है जानिए

रमजान में मुस्लिम लोग इफ्तार के समय खजूर से रोजा खोलते है। रमज़ान का महीने में खजूर सबसे ज़्यादा बिकने वाला फल माना जाता है। लेकिन क्या आपने यह गौर किया है कि आखिर खजूर को रमज़ान में इतनी महत्ता क्यों दी गयी है।
आखिर क्या कारण है कि पूरे दिन भूखे प्यासे रहने के बाद शाम को रोज़ा खोलते समय सबसे पहले खजूर ही खाया जाता है। आइये आज हम आपको खजूर के इस तत्थय को समझाते हैं। इसे इस्लाम में सुन्नत माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस्लाम धर्म के पैगम्बर मोहम्मद साहब को खजूर बहुत पसंद थे, इसलिए रोजा खजूर खाकर ही खोला जाता है।
दरअसल रोज़े रखते समय दिनभर भूखे-प्यासे रहने की वजह से शरीर में एनर्जी लेवल बहुत ही कम हो जाता है। ऐसे में रोजा खोलते समय खजूर खाने से बाॅडी को तुरंत एनर्जी मिल जाती है। इसके साथ ही इफ्तार के दौरान खायी चीजों को पचाने में भी खजूर मदद करता है। द अमेरिकन न्यूट्रिशन सेंटर की रिसर्च कें मुताबिक एक दिन में हमारी बाॅडी को जितने फाइबर कीे जरूरत होती है वह हमें खजूर खाकर ही मिल जाती है। फाइबर्स के अलावा खजूर में मौजूद न्यूट्रियन्स हमारी बाॅडी को हेल्दी रखते है जिस कारण इफ्तार में समय खजूर खाते है।

आइये जानते है, खजूर के कुछ और भी अहम फायदे हैं…!

– रोज दूध में खजूर खाने से कमजाेरी दूर होती है।
– अगर कमर में दर्द है तो खजूर को उबालकर उसमें मेथी को दाना मिला कर खाये कमर दर्द दूर हो जायेगा।
– खजूर में मिश्री मिलाकर इसे गर्म दूध से खाने से सर्दी खांसी ठीक हो जाता है।
– खजूर में शहद मिलाकर खाने से लिवर प्रॉब्लम से बचाव होता है। यह डाइजेशन ठीक रखने में मदद करती है।
– खजूर में मौजूद फाइबर्स के कारण बार बार भूख नहीं लगती है।
– खजूर हमारे बाॅडी का इम्यूनिटी पाॅवर बढ़ाता है ओर बिमारियों को दूर राखता हैं।
– इसमें बिटामिन बी 6 से दिमाग की ताकत बढ़ती है औा खजूर रोजे के दोरान होने वाले डालनेस से बचाता है ।
– इसमें अल्केलाइड्स होते है। इससे ब्लड सर्कुलेशन इम्प्रूव होता है।

Loading...
loading...
Comments