ये आसान उपाय बैंक पीओ परीक्षा में सफलता दिलायेगी

बैंकिंग करियर युवाओं के बीच सबसे लोकप्रिय और आकर्षक करियर्स में से है। भारतीय रिजर्व बैंक तथा सरकार द्वारा वित्तीय सेवाओं के विस्तार के प्रयास के चलते बैंकिंग सेक्टर में जॉब के अवसर तेजी से बढ़ रहे हैं। फिर आगामी कुछ वर्षों में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का लगभग आधा वर्कफोर्स रिटायर होने जा रहा है।

इसके चलते इन बैंकों को बड़ी तादाद में नई भर्तियां करने की जरूरत पड़ने वाली है। बैंकों में प्रोबेशनरी ऑफिसर/मैनेजमेंट ट्रेनी के पदों पर भर्ती की परीक्षा मुख्य रूप से दो प्रमुख एजेंसियों आईबीपीएस तथा एसबीआई द्वारा आयोजित की जाती है। इन दोनों एजेंसियों द्वारा कराई जाने वाली बैंक पीओ परीक्षाओं में हर साल 10 लाख से अधिक युवा शामिल होते हैं।

✿ एग्जाम पैटर्न

आईबीपीएस और एसबीआई दोनों ही दो चरणों में प्रोबेशनरी ऑफिसर/मैनेजमेंट ट्रेनी एग्जाम कराते हैं: प्रिलिमनरी और मेन्स। जो उम्मीदवार प्रिलिमनरी एग्जाम में क्वॉलिफाई करते हैं, उन्हें मेन्स में बैठने की पात्रता मिलती है। मेन्स के बाद शॉर्ट लिस्ट किए गए उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।

आईबीपीएस व एसबीआई प्रिलिमनरी एग्जाम प्रिलिम्स में 3 खंड होते हैं: इंग्लिश लैंग्वेज (30 प्रश्न, 30 अंक), क्वांटेटिव एप्टिटयूड (35 प्रश्न, 35 अंक) और रीजिंनग एबिलिटी (35 प्रश्न, 35 अंक)। कुल 100 प्रश्न और 100 अंकों की इस परीक्षा की अवधि होती है 1 घंटा। ध्यान रहे, उम्मीदवार को हर खंड में एक निश्चित कट-ऑफ को क्लियर करना होगा, तभी वह मेन्स के लिए क्वॉलिफाई कर सकेगा।

✿ आईबीपीएस मेन एग्जाम

आईबीपीएस की मेन्स 2 घंटों की होती है। इसमें 5 खंड होते हैं: रीजिंनग (50 प्रश्न, 50 अंक), इंग्लिश लैंग्वेज (40 प्रश्न, 40 अंक), क्वांटेटिव एप्टिटयूड (50 प्रश्न, 50 अंक), जनरल अवेयरनेस- बैंकिंग उद्योग के विशेष संदर्भ में (40 प्रश्न, 40 अंक), कम्प्यूटर नॉलेज (20 प्रश्न, 20 अंक)। इस प्रकार यह परीक्षा कुल 200 प्रश्न और 200 अंकों की होती है।

✿ एसबीआई मेन एग्जाम

एसबीआई की मेन्स में 200 अंकों का ऑब्जेक्टिव टेस्ट और 50 अंकों का डिस्क्रिप्टिव टेस्ट होता है। ये दोनों ही टेस्ट ऑनलाइन होते हैं। 2 घंटे के ऑब्जेक्टिव टेस्ट में 50-50 अंक के 4 खंड होते हैं: इंग्लिश लैंग्वेज/ जनरल अवेयरनेस, मार्केटिंग एंड कम्प्यूटर्स/ डाटा एनालिसिस एंड इंटरप्रिटेशन/ रीजिंनग। फेज-3 इसमें ग्रुप डिस्कशन (20 अंक) तथा इंटरव्यू (30 अंक) होते हैं।

✿ कैसे करें तैयारी

इस परीक्षा में होने वाली बेहद कड़ी प्रतिस्पर्धा को देखते हुए इसकी तैयारी की रणनीति बड़ी सूझबूझ के साथ बनाना जरूरी है। सिलेबस को अच्छी तरह समझ लें सबसे पहली बात तो यह कि आपको परीक्षा के सिलेबस तथा

ऑनलाइन एग्जाम पैटर्न की स्पष्ट जानकारी होनी चाहिए। ध्यान रहे, इस परीक्षा के हर खंड में अच्छा प्रदर्शन करना जरूरी होता है।

✿ अपना स्टडी प्लान बनाएं

किसी भी परीक्षा को क्रैक करने में टाइम मैनेजमेंट की बड़ी भूमिका होती है। अपने लिए एक टाइम टेबल बनाएं और उसका कड़ाई से पालन करें। अपनी पढ़ाई विषयवार करें। एक समय पर एक विषय लें और उसके अधिक से अधिक प्रश्न हल करने का प्रयास करें। निश्चित अंतराल के बाद रिविजन जरूर करें।

✿ पढ़ने की आदत डालें

पढ़ने की आदत डालने से आपको कॉम्प्रिहेंशन और पूरे इंग्लिश सेक्शन में बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिलेगी। रोजाना अखबार पढ़ने का नियम बना लें। इससे जनरल अवेयरनेस की तैयारी काफी हद तक आसान हो जाएगी।

✿ मॉक टेस्ट देते रहें

परीक्षा की तैयारी का एक अहम हिस्सा है सेल्फ असाइनमेंट और मॉक टेस्ट। निश्चित समय-सीमा में मॉक टेस्ट देने के लिए आप स्टॉप वॉच का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा और स्पीड भी। कोशिश करें कि प्रतिदिन 2 मॉक टेस्ट या प्रोडक्टस पेपर हल करें। क्वांटेटिव एनालिसिस और रीजिंनग के लिए तो इस तरह का नियमित अभ्यास बहुत ही जरूरी है। जीके व कम्प्यूटर सेक्शन की उपेक्षा न करें ये दोनों खंड कम समय लेते हैं और इनमें आप आसानी से स्कोर कर सकते हैं।

✿ स्टडी ग्रुप बनाएं

अकेले पढ़ने के बजाय ग्रुप बनाकर पढ़ना अधिक फायदा करता है। आपकी ही तरह बैंकिंग परीक्षा देने जा रहे उम्मीदवारों का ग्रुप बनाएं और साथ बैठकर तैयारी करें। हां, ग्रुप में 3 या 4 से अधिक लोग न हों। साथ पढ़ने से नई मेथड्स व शॉर्ट ट्रिक्स सीखने में मदद मिलती है।

✿ इंटरव्यू में इन बातों 4 को इग्नोर न करें

एक्यूरेसी का ध्यान रखना बहुत जरूरी है क्योंकि ऑब्जेक्टिव टेस्ट में निगेटिव मार्किंग होती है। हर गलत उत्तर पर 0.25 अंक काटा जाता है। अपनी पढ़ाई को केवल उन किताबों तक सीमित न रखें, जो आपको हालिया समय के बारे में सूचनाएं देती हैं। इंटरनेट की मदद से और जानकारी जुटाएं। इस परीक्षा की तैयारी के लिए किताबें, अखबार, जर्नल्स, पत्रिकाएं, ऑनलाइन पोर्टल, ब्लॉग आदि तमाम स्रोत खंगालें।

✿ मेन्स की तैयारी में देर न करें

कई उम्मीदवार प्रिलिम्स के परिणाम आने के बाद ही मेन्स की तैयारी शुरू करते हैं। यह रवैया गलत है। मेन्स की तैयारी भी प्रिलिम्स के साथ ही शुरू कर दें क्योंकि इसकी तैयारी में अधिक समय लगता है।

✿ खुद पर भरोसा करें

इस परीक्षा को क्रैक करने के लिए आत्मविश्वास बहुत जरूरी है। बैंकिंग परीक्षा में सफल होने वाले उम्मीदवारों में एक बात समान पाई गई है और वह यह कि वे सब आत्मविश्वास से भरे होते हैं।

Loading...
loading...

You might also like More from author

Comments