शारीरिक संबंध बनाने के समय इन बातों से डरती है महिलाएं

महिलाएं कभी-कभी शारीरिक संबंध बनाने से डरती भी है। जो चींज लुभाती है, वो अगर डराए भी तो क्या हो लेकिन ऐसा होता है और अक्सर होता है। इस डर से बचना जरूरी है। अगर डर होगा तो फिर शारीरिक संबंध बनाने में मजा नहीं होगा। देखा गया है कि डर की वजह से अनेकों महिलाओं की सेक्सलाइफ बोरिंग हो जाती है। कई तो इससे बचना भी चाहती हैं और इसके लिए तरह-तरह के बहाने बनाती हैं।

शारीरिक संबंध जहां पुरुषों के लिए अपनी अजीबो-गरीब फैंटेसी को पूरा करने का साधन है, वहीं औरतों के लिए यह रिलेशन काफी इमोशनल होता है। शारीरिक संबंध के दौरान महिलाएं अपने आप को पूरी तरह से समर्पित कर देती हैं, लेकिन अक्सर पुरुष शारीरिक संबंध संबंधों के दौरान भावनाओं में नहीं बहते। उनके लिए महज शारीरिक संतुष्टि ही काफी होती है।

शारीरिक संबंध करते हुए महिलाओं के लिए सबसे बड़ा डर प्रेग्नेंसी का होता है। अक्सर पुरुष साथी कंडोम का प्रयोग नहीं करना चाहते। दूसरे, कई महिलाएं भी कंडोम के साथ शारीरिक संबंध में वो आनंद प्राप्त नहीं कर पाती। कई बार शारीरिक संबंध संबंध इतने अचानक बन जाते हैं कि कुछ सोचने का मौका नहीं मिलता। प्रेग्नेंसी का डर शारीरिक संबंध के बाद महिलाओं की चिंता का सबसे बड़ा कारण होता है।

पुरुषों को महिलाओं की इच्छा समझना चाहिए, पोर्न की तरह व्यवहार न करें। प्राय: पुरुष शारीरिक संबंध के दौरान महिलाओं की इच्छाओं और उनकी भावनाओं का ख्याल नहीं करते वे सिर्फ अपनी संतुष्टि से मतलब रखते हैं। महिलाएं संवेदनशील व्यवहार से संतुष्ट होती हैं, पर पुरुष उनके साथ कुछ इस तरह शारीरिक संबंध करना चाहते हैं मानो किसी पोर्न स्टार के साथ शारीरिक संबंध कर रहे हैं। यह महिलाओं के डर का बहुत बड़ा कारण है।

शारीरिक संबंध मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं में शारीरिक संबंध की इच्छा काफी बढ़ जाती है, पर उन्हें लगता है कि इस अवस्था में अगर शारीरिक संबंध किया तो पता नहीं इससे क्या समस्या पैदा हो जाए। दूसरे, पीरियड्स के दौरान पुरुष भी महिलाओं के साथ शारीरिक संबंध करने में रुचि नहीं लेते। पीरियड में शारीरिक संबंध नहीं करना चाहिए, यह एक गलत धारणा है। इस दौरान शारीरिक संबंध करने से कुछ भी नहीं होता। इसलिए महिलाओं को इस डर से मुक्त हो जाना चाहिए।

Loading...
loading...

You might also like More from author

Comments