छिनता जा रहा है आजकल बच्चों का बचपन

ये वो शब्द है जो आजकल गली मौहल्लों में सुनने को नहीं मिलते है। इन शब्दों के साथ बच्चों का बचपन निकलता था और बच्चे इस तरह के सैकडों शब्दों के साथ अपना बचपन भरूपर जीते थे। आजकल ये शब्द सुनने को नहीं मिलते हैं। हमने विकास के साथ क्या पाया और क्या खोया कि अगर गणना करें तो बच्चों के हिस्से से हमने उनका बचपन छीन लिया है और उनके बचपन को हमने यांत्रिक बचपन बनाकर रख दिया है।

याद करो वो दिन जब आप और हमारे जेसे बच्चे सुबह और शाम को अपने महल्ले में टोलियाँ बनाकर घूमा करते थे और दुनिया भर की चिंता से मुक्त होकर खुले आसमान में कभी गिल्ली डंडा खेला करते थे तो कभी किसी बाग में लुका छिपी का खेल खेलकर अपने साथियों को ढूढा करते थे। बचपन की वो यादें आज भी हमारे जेहन में ऐसे ताजा है कि उनको याद कर हम आज भी खुद को तरोताजा महसूस करते है।

एक समय था जब बचपन खेल खेल में निकल जाता था और बचपन का मतलब ही खेल खिलौनों से लगाया जाता था। हर गली मौहलले में बच्चों की टोलियाँ अलग अलग खेल खेला करते थे। कोई लुका छिपी खेलता तो कोई पकडा पकडी, गिल्ली डंडा का खेल तो बच्चों का सबसे प्रिय खेल हुआ करता था। इसी के साथ लंगडी खेलना, लहे और लकडी का खेल खेलना, पेल दूज का खेल, धाड धुक्कड का खेल, गुड्डे गुड्डियों की शादी करना आदि आदि बहुत से ऐसे खेल थे जिनके माध्यम से बच्चे खेल खेल में बडे होने के साथ ही समाज की सामाजिकता को सीखते थे।

याद करो वो अपने शहर में बारिस का आना और वो कागज की कशितयाँ बनाकर पानी में छोडना और उस कश्ती के पीछे पीछे जब तक जाना जब तक कि वह कश्ती दम न तोड दे। याद करो वो तेज आँधियों में कागज से बनी पतंगों को उडाना और आनन्द लेना। कितना खुशगवार होता था वह सब। कितना शानदार और यादगार रहा है हमारा बचपन। पर आज के बच्चों के नसीब में यह बचपन नहीं है, उनके पास मोबाईल फोन हैं, कम्प्यूटर है, टीवी है, विडियोगेम है और आधुनिक साजो सामान के बने यंत्र है खिलौने है पर नहीं है तो कश्ती वो पतंग और वो अल्हडपन और वो बचपना।

वर्तमान परिदृश्य पर गौर फरमाए तो हमें पता चलता है कि हमने विकास की इस दौड में बच्चों से बचपन छिन लिया है और उनके सिर पर स्कूल के बैग का इतना बोझ डाल दिया है कि आजकल के बच्चों की अल्हडता और नाजुकता इन बस्तों को बोझ में दब कर रह गई ह। आज किसी भी गली मोहल्ले में बच्चे आपको खेलते नजर नहीं आएंगे। आजकल का बच्चा टीवी के सामने सीरियल देखता है, कार्टून की फिल्म देखता है, टीवी फिल्म देखता है और गेम्स पीरियड में थोपा हुआ गेम खेलकर अपनी दिनचर्या पूरी करता है।

क्या यह स्थितियाँ बच्चों के लिए लाभदायक है। इस पर गंभीरता से चिंतन करने की आवश्यकता है। पिछले दौर में गली मौहल्ले में खेलकर बच्चा साामाजिकता सीखता था आपस में मिलकर रहना, पडौसी से प्रेम, भाईचारा और समाज में रहने का तरीका सीखता था। वह खेल खेल में अपने पूरे मौहल्ले और पडौसी को जान जाता और वह बच्चा पूरे मौहल्ले का बच्चा माना जाता था। आज जो सामाजिक स्तर गिरा है और नैतिकता में जो कमी आई है और व्यक्ति ने स्व की कोटर में रहना सीखा है इसका मूल कारण एक यह भी है कि हमने बच्चों को उनके स्वाभाविक खेलों से दूर कर लिया।

हमने उसको एकाकीपन से भरे खेल दिए जिन्हे खेलकर वह स्वयं एकाकी होता जा जाता है उसे पता नहीं कि पडोस में कौनसा उसकी हमउम्र का बच्चा रहता है और उसको उससे दोस्ती करनी है। उसे यह तो पता है कि आज किस कार्टून चैनल पर कौनसा सीरियल आएगा और आईपीएल खेलों का कलेण्डर क्या है लेकिन वह यह नहीं जानता कि उसका मौहल्ला कितना बडा है और उसमें कौन कौन रहते हैं। कम्प्यूटर पर बैठकर दुनिया भर की खबर रखने के चक्कर में वह अपने पडौस से अनजान रह जाता है। जिन खेलों के माध्यम से पूरे समाज में उसका प्रवेश होना था वह द्वार अब उसके पास नही रहा है और यही कारण है कि मौहल्ले का होने वाला यह बच्चा अब शर्मा जी, वर्माजी, सक्सेनाजी का बच्चा होकर रह गया है।

खेल जीवन में अनुशासन तो सीखाते ही है साथ ही साथ खेलों के माध्यम से बच्चे के व्यक्तित्व का भी विकास होता है। लेकिन बंद कमरे में विडियोगेम पर खेले जाने वाले खेलों के माध्यम से आजकल के बच्चे ने अपने बचपन को खो दिया है और वह बच्चा बडा होकर अपने ही समाज में अकेला महसूस करता है। आप इमानदारी से अपने आस पास के घर परिवार के माहौल पर नजर डाले और अपने आप के बचपन से अपने आज के बच्चे के बचपन की तुलना करें तो शायद जो बात में कहना चाह रहा ह वह अपने आप आफ समझ में आ जाएगी। जरूरत है आज के बच्चे को स्व की कोटर से निकाल कर सामाज के उस पटल पर रखने की जहाँ समग्र समाज उसे अपना परिवार लगे और वह अपने बचपन से ही वसुधैव कुटुम्बकम की भावना के साथ बडा हो और एक जिम्मेदार नागरिक बने।

किसी कवि की कही ये पंक्तियाँ के साथ मैं अपनी बात को विराम देना चाहुंगा : –

ये दौलत भी ले लो,

ये शोहरत भी ले लो,

भले छिन लो मुझसे मेरी जवानी,

मगर मुझको लौटा दो

वो बचपन का सावन

वो कागज की कश्ती

वो बारिस का पानी………!

Loading...
loading...

You might also like More from author

Comments