जल्द ही अपना मोबाइल नंबर को करा ले आधार से लिंक वरना हो जाएगा बंद

फरवरी-2017 से बंद होंगे बिना आधार के सिम कनेक्शन

फरवरी-2017 के प्रथम सप्ताह के बाद बिना आधार वाले मोबाइल कनेक्शन बंद कर दिए जाएंगे। दूरसंचार मंत्रालय ने बीएसएनएल सहित अन्य सभी निजी दूरसंचार कंपनियों को मोबाइल कनेक्शन आधार से जोड़ने के निर्देश दिए गए हैं।

  • दूरसंचार मंत्रालय ने शुरू की आधार से लिंक करने की मुहिम  

मोबाइल सिम का फर्जीवाड़ा पकड़ने मंत्रालय ने आधार से लिंक करने की मुहिम शुरू की है। जांच- पड़ताल में जो लोग दूसरे के नाम की सिम उपयोग करते पाए जाएंगे, उनके लिए वही नंबर अलॉट कराने का विकल्प मिलेगा। दूरसंचार मंत्रालय ने मोबाइल सिम ऑपरेट करने वाले हर व्यक्ति की पहचान सुनिश्चित करने के लिए ही यह अभियान शुरू किया है। सुरक्षा एवं खुफिया एजेंसियों द्वारा लगातार दी जा रही चेतावनी, साइबर क्राइम एवं बढ़ रही ऑनलाइन चीटिंग की वारदातों के चलते यह मुहिम शुरू की गई है। यह व्यवस्था शुरू होने के बाद ऑनलाइन शापिंग, ई बैंकिंग, बिल पैमेंट एवं रीचार्ज आदि सुविधाएं उपयोग करने वालों को अपनी पहचान छिपाना संभव नहीं होगा।

बीएसएनएल, आइडिया, एयरटेल व जियो सहित अन्य सभी निजी ऑपरेटर्स अपने ग्राहकों को इस संबंध में सूचना दे रहे है। इसके लिए 6 फरवरी 2018 तक का समय भी दिया जा रहा है। इसके बाद आधारविहीन मोबाइल बंद कर दिए जाएंगे। एक से अधिक मोबाइल रखने की पात्रता रहेगी, लेकिन सभी नंबरों को आधार से लिंक कराना अनिवार्य होगा। उपभोक्ता को अपना मोबाइल सेट भी अनिवार्य रूप से साथ ले जाकर संबंधित मोबाइल कंपनी के दफ्तर में आधार नंबर प्रस्तुत करना होगा। 

मोबाइल कंपनी ‘थम्ब इंप्रेशन लेकर ग्राहक के नंबर पर ओटीपी नंबर जारी करेगा। नंबर की पुष्टि होते ही 48 घंटे में एक एसएमएस भेजा जाएगा। इसमें नाम ‘चेंज करने के लिए ‘यस एवं ‘नो का विकल्प दिया जाएगा। ग्राहक को यदि वह नंबर नहीं रखना है तो तुरंत ही ‘नो का विकल्प देना होगा, यदि संदेश का जवाब नहीं दिया गया तो कंपनी उसे ‘यस मानकर नंबर अलॉट कर देगी। इस संबंध बीएसएनएल भोपाल के प्रधान महाप्रबंधक ड़ॉ महेश शुक्ला का कहना है कि मंत्रालय ने सभी मोबाइल कनेक्शन को ‘आधार से जोड़ने के निर्देश दिए हैं। इससे ग्राहकों की सुविधा बढ़ेगी। साथ ही फर्जी कनेक्शन और असामाजिक तत्वों की गतिविधियों पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी।

Loading...
loading...

You might also like More from author

Comments