ये फैशन फंडा जो आपको कॉलेज में स्टाइलिश लुक देगा

जानिए वो टिप्स जो आपको कॉलेज में स्टाइलिश और अलग दिखाने में मदद करेंगे।

स्कूल खत्म करने के बाद हर स्टूडेंट कॉलेज में एडमिशन लेकर कॉलेज लाइफ जीना चाहते हैं। स्कूल पास करने के बाद स्टूडेंट्स को कॉलेज जाने की सबसे ज्यादा उत्सुकता इस बात की होती है कि अब वो ऐसी जगह पढ़ने जाएंगे ड्रेस नहीं पहननी पड़ेगी। इसी के साथ युवाओं में कॉलेज के लिए फैशन को लेकर होड़ चलती है। हर साल नए सेशन के में सभी कॉलेज अपनी पढ़ाई के साथ फैशन के लिए भी जाने जाते हैं।

फिल्हाल सभी स्टूडेंट्स एडमिशन के बाद कॉलेज जाने के लिए तैयार है। शुरुआत में बच्चों के लिए सबसे बड़ा टास्क सबसे आर्कषक और अलग दिखना ही होता है। जोशीला खबर आज स्टूडेंट्स के लिए हेयर स्टाइल से लेकर कपड़ों और बैग्स की फैशन टिप्स दे रहा है।

जानिए वो टिप्स जो आपको कॉलेज में स्टाइलिश और अलग दिखाने में मदद करेंगे।

-कॉलेज में हर स्टूडेंट स्टाइलिश दिखना चाहता है। लड़कियां और लड़के कॉलेज में कम्फर्टेबल कपड़ें पहनें तो कूल लगते हैं। जिसमें वो नॉर्मली जीन्स और टीशर्ट पहन सकते हैं। लड़कियां जीन्स टीशर्ट के साथ स्टड्स लुक के इयरिंग्स, नेकलेस और शूज या सिंपल चप्पल कैरी कर सकती हैं। बॉयज भी जीन्स-टी शर्ट के साथ शूज और शेड्स कैसी कर सकते हैं।

-कॉलेज में हर स्टूडेंट स्टाइलिश दिखना चाहता है। लड़कियां जीन्स और टीज कैरी कर सकती हैं। जिसके साथ वो बन (जूड़ा) भी बना सकती हैं

-कॉलेज में हर स्टूडेंट स्टाइलिश दिखना चाहता है। लड़कियां जीन्स और टीज कैरी कर सकती हैं। जिसके साथ वो बन (जूड़ा) भी बना सकती हैं।

-स्टूडेंट्स एडमिशन के बाद कॉलेज जाने के लिए तैयार है। शुरुआत में बच्चों के लिए सबसे बड़ा टास्क सबसे आर्कषक और अलग दिखना ही होता है। जिन लड़कियों को फुल स्लीव टॉप या कुर्ती पसंद हैं वो लूज लुक में पहन सकते हैं। उसपर मेसी हेयर लुक काफी ट्रेंड में है।

-लड़के टी शर्ट पर ओपन शर्ट पहन सकते हैं। ये काफी कूल लुक देता है। लेकिन बॉयज को ये ध्यान रखना होगा कि जब प्लेन टीशर्ट लें तो उसपर शर्ट चेक या लाइनिंग में ही लेंसभी कॉलेज अपनी पढ़ाई के साथ फैशन के लिए भी जाने जाते हैं। बच्चे फैशनेबल दिखने के साथ स्टूडेंसट्स लुक को बरकरार रखना चाहते हैं। जिसमें उनके बैग्स का लुक भी अहम रोल निभाता है। कैरी करने में सिंपल और साइज़ में बड़े बैग स्टूडेंट्स को खूब भाते हैं।

Loading...
loading...

You might also like More from author

Comments